पर्यटन आकर्षण के अतिरिक्त आगरा राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी शिक्षा की गुणवत्ता और औद्योगिक उन्नति के लिए भी मशहूर है। शहर केवल विदेशी पर्यटकों को नैसर्गिंक दृश्य के लिए ही नहीं आकर्षित करता है, बल्कि उद्योग जैसे चमड़ा ढलाई और हस्त कला के लिए भी मशहूर माना जाता है।
 

यद्यपि जूते का उत्पादन इस क्षेत्र में भारत स्वतन्त्र होने के पहले ही शताब्दियों से शुरू हो चुका था, लेकिन यह क्षेत्र पूर्णरूप से विकसित नहीं था, क्योंकि उस समय मूल ढॉचा उपलब्ध नहीं था। सोलहवीं सदी की शुरूआत थी जब चर्म उत्पादक और दूसरे उद्यमियों ने इस पर विचार किया कि चमड़े को जूता उत्पादन और अन्य दूसरे चमड़े से बनी वस्तुओं पर कच्चे माल के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। यद्यपि कुशल कारीगर काफी संख्या में देश के कुछ क्षेत्रों में उपलब्ध थे, लेकिन सबसे बड़ी कमी प्रबन्धन व सुपरवाईजर की थी। यह एक दुर्लभ समस्या थी जो कि देश में जूते उत्पादन की फैक्ट्री लगाने में एक बड़ी रूकावट थी। इस समस्या का समाधान करने के लिए उद्योग एवं वित्त मंत्रालय सरकार ने सेन्टर फुटवियर टे्रनिंग सेन्टर की आराम में लघु उद्योग के रूप में जुलाई 1963 के स्थापना की। इस केन्द्र को आयातित मशीनों के द्वारा सुसज्जित किया गया। इस सेन्टर का मुख्य उद्देश्य जूता उद्योग के तकनीकी ज्ञान से नौजवान व्यक्तियों को उपलब्ध कराना था और स्टॉफ को कुशल बनाने के लिए ज्ञान बढ़ाना था।
 

समयसमय पर केन्द्र में अतिरिक्त जरूरी परिवर्तन किये गये लेकिन जूता उद्योग को देश में बढ़ाने के साथसाथ ही आधुनिक मशीनों को भी जानकारी भी दी गयी और केन्द्र को आधुनिक रूप से बनाने की आवश्यकता महसूस की गयी, उद्योग की जरूरत को पूरा करने के लिए सन् 1993 में पूर्ण रूप से आधुनिक प्लाण्ट आयातित किया गया जो कि राष्ट्रीय चर्म विकास योजना के तहत यूनाइटेड नेशन्स इंडस्ट्रियल डेवलेपमेंट आर्गनाइजेशन की मदद से मंगाया गया।
 

एक जनवरी सन् 1996 को सेन्टर फुटवियर ट्रेनिंग आगरा एक स्वतन्त्र संस्था में परिवर्तित हो गया और इसका नाम केन्द्रीय पादुका प्रशिक्षण संस्थान हो गया जो कि भारत सरकार की एक संस्था है जो कि चेयरमेन और अतिरिक्त सचिव/विकास आयुक्त (लघु स्तर के उद्योग) लघु उद्योग विकास संस्थान, उद्योग भारत सरकार जिसका उद्देश्य प्रबन्धक निर्णय को तेजी से लागू करना है।
 

प्रशिक्षण केन्द्र की चार दीवारी आगरा, दिल्ली हाइवे सिकन्दरा पर राजामंडी रेलवे स्टेशन से 10 किमी. और आगरा केन्ट से 12 किलोमीटर पश्चिम की तरफ 7500 स्कॉयर्ड वर्गमीटर जमीन पर फैली हुई है। प्रशिक्षण केन्द्र शहर से लगा हुआ है और सरलता से सिटी बस उपलब्ध है हमारे कैम्पस में डिजाइनिंग, क्लिकिंग, क्लोजिंग, लास्टिंग, टेस्टिंग, इन्टरनेट लेब, कैड लेब आदि अलगअलग विभाग है। इसके अलावा इस प्रशिक्षण केन्द्र में विद्यार्थियों को मनोरंजन के लिए व उनकी थकान दूर करने के लिए मनोरंजन के कमरे व केन्टीन उपलब्ध हैA यह आदर्श कैम्पस विकास करने का एक तेज टै्रक है।

 

Copyright @ 2011 www.cftiagra.org.in